कंचरापारा में ABSVP की पहली बैठक, कल से लागू ऐतिहासिक निर्णय ।

0
522
Umesh Saraf

24GhontaLive संवाददाता / राजीव गुप्ता / कांचरापाड़ा / 15 जनवरी 2021 : देशभर में सक्रिय संस्था अखिल भारतीय स्वर्णकार विकास परिषद की कांचरापाड़ा इलाके के स्वर्ण आभूषण व्यवसाय से जुड़े लोगों के साथ पहली बैठक कल कांचरापाड़ा में संपन्न हुई।

Advertisement

इस बैठक में स्वर्ण व्यापार से जुड़े कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई इस कारोबार से जुड़े लोगों की समस्या के बारे में तो बात हुई ही इसके साथ साथ आने वाले दिनों में सरकारी संस्थानों की ओर से लागू किए जा रहे कई कठोर नियमों के बारे में भी खुलकर जानकारी दी गई।

Advertisement (Contact for Wholesale)

इतना ही नहीं इसके साथ साथ सरकार द्वारा इस व्यापार से जुड़े लोगों के लिए दिए जा रहे हैं सुविधाओं को भी बताया गया।

Advertisement 8240054075

इस बैठक के दौरान व्यापारियों में काफी सकारात्मक उत्साह देखने को मिला । इस बैठक में मुख्य रूप से गोपाल दास, राजू कर्मकार, मनोज साव, ओम प्रकाश गुप्ता, अजीत गुप्ता, चंदन साव, रमेन साव, बिजय गुप्ता, पिंटू साव इत्यादि लोग शामिल हुए । सभी ने परिषद के सुझावों व मांगों की सराहना के साथ जल्द ही यहां एक बड़े सेमिनार की मांग की।

Advertisement ( By : Mannu Shaw)

ज्ञात हो कि स्वर्ण व्यापार से जुड़े उन लोगों को समाजवाद सरकारी प्रतिष्ठान हमेशा गलत दृष्टिकोण यानी साफ शब्दों में कहा जाए तो चोर ही समझते थें।

दरअसल इस व्यापार के वर्तमान प्रचलन के आधार पर, सरकार द्वारा लागू किए जा रहे विभिन्न नियम व कानूनों को लागू किया जाए तो व्यापारी चोरी किए बिना शायद ही अपना घर चला पाए।

Adv
Adv : Keshari Light House

अतः इस विषय पर भी अखिल भारतीय स्वर्णकार विकास परिषद की ओर से पश्चिम बंगाल के कन्वेनर उमेश सराफ के द्वारा लाए गए एक सुझाव को पूरे देश भर के व्यापारियों कारीगरों या थोक विक्रेताओं के द्वारा समर्थन के साथ काफी सराहना हुई।

Umesh Saraf
Umesh Saraf

ईस सुझाव के तहत सरकार द्वारा तय किए गए स्वर्ण आभूषण के तीनों कैटेगरी यानी 22 18 व 14 कैरेट के गहनों का एक निर्दिष्ट थोक भाव देशभर से निकाला जाएगा। जो की खरीद के लिए अलग वह बिक्री के लिए अलग होगा।

ईस नए स्वरूप में अलग से मजदूरी लेने की प्रथा को भी समाप्त कर दिया जा रहा है।

यहां बताते चले कि सोना जो कि अंतरराष्ट्रीय बाजार तक में एक महत्वपूर्ण धातु की मान्यता पा चुका है।

लेकिन सरकारी स्तर पर इसकी भाव केवल और केवल कच्चे सोने की ही निकाली जाती है। आभूषण के नहीं।

अब परिषद का यह तर्क है कि कच्चे सोने के भाव से ग्राहक को आभूषण बेचना, यानी ग्राहक एवं व्यापारी दोनों के लिए काफी नुकसानदेह साबित हो रहा है ।

क्योंकि ठोश सोने से आभूषण बनाने की जो प्रक्रिया है उसमें ठीक उसी तरह छांट यानी नुकसान होता है, जैसे कपड़े लोहे लकड़ी आदि के सामानों को बनाने में । पर कीमती द्रव्य होने के कारण लोग इसे मानना नहीं चाहत, लेकिन यही वास्तविक सत्य है।

ऐसी स्थिति में ग्राहकों को खुश रखने के लिए यह नुकसान दुकानदार खुद सहने को तैयार हो जाता है। जबकि वास्तविकता कुछ और ही होती है।

अमूमन इस नुकसान की भरपाई हेतु व्यापारी उस सोने में मिलावट करने हेतु बाध्य हो जाता है तथा ग्राहक को दी जाने वाले आभूषण का मानक सामान्य से कम ही होता है।

जिसका नुकसान ग्राहक को भविष्य में उठाना होता है।

देखा जाए तो परिषद द्वारा स्वीकृति प्राप्त इस नए नियम यानी अब गानों के बिक्री और खरीद दर को निकालने का जो फैसला लिया गया है , वह ग्राहक व दुकानदार दोनों को पूर्ण रूप से अस्वस्थ कर रहा है। क्योंकि इस नियम के तहत साफ शब्दों में कहा गया है कि आभूषण के गुणवत्ता से कोई समझौता मंजूर नहीं होगा । अतः ग्राहक को उच्च गुणवत्ता वाले उचित सामान देना होगा तथा वापसी के वक्त भी पूरी पारदर्शिता निभानी होगी।

इसी कारण इस फैसले को ऐतिहासिक माना जा रहा है। यह फैसला स्वर्ण कारों के लिए एक स्वर्ण युग साबित होगा क्योंकि इसमें ग्राहक भी ठगी का शिकार होने से बचेंगे।

Advertisement

इस नए नियम को देश भर से अधिकतर स्वर्णकारों ने लगमझ करने का निर्णय लिया है। 16 जनवरी 2021 से देशभर के साथ-साथ काकीनाडा जगतदल व श्यामनगर के सभी दुकानदार इस नियम से व्यापार की शुरुआत करने जा रहे हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here