महाराष्ट्र में जारी महासंग्राम, गद्दी होगा किसके नाम ?

0
48

२४ घंटा लाइव सम्बादाता / राजीव गुप्ता / २८ जून २०२२  : बीते कई दिनों से महाराष्ट्र बिधानसभा में चल रहे राजनैतिक उथल पुथल के बिच बानी हुई है असमंजश की स्थिति ।

Advertisement

एक ओर एकनाथ शिंदे तो दूसरी तरफ उद्धव ठाकरे लड़ाई चल रही है आर पार की।  यहाँ केवल बात सरकार बचने व बनाने तक ही सिमित नहीं है, अब बात शिवसेना की भी है की कौन होगा शिवसेना का असली हक़दार। किसके पास रहेगी पार्टी की बागडोर। Kesri Light House

अगर नियम को देखा जाए तो सदन में फ़िलहाल एकनाथ शिंदे के पास पार्टी की २ तिहाई से ज्यादा बिधायकों का समर्थन प्राप्त है। जबकि उद्धव ठाकरे भी झुकने को बिलकुल से तैयार नहीं है, बल्कि अभी नया मास्टरस्ट्रोक खेलते हुए कभी डिप्टी स्पीकर द्वारा १६ बिधायकों को नोटिस जारी करवा कर अयोग्य घोषित करने के फ़िराक में तो कभी पार्टी कार्यकर्ताओं से बागियों के घर व दप्तर पर हमले भी करवा रहे हैं।

Mahavir Computer

माना जा रहा हैं की ये सब उन बागी विधायकों को झुकाने के लिए उनपर दबाव बनाने की कोशिश है। फ़िलहाल उद्धव गुट के ओर से संजय राउत व आदित्य ठाकरे मैदान में  लोहा ले रहे हैं शिंदे गुट के खिलाफ । जारी है जुबानी जंग, लेकिन शिंदे है के मानता नहीं।

Add Crystal Inn
जब बालासाहब को लेकर छिड़ी इस जंग में शिवसेना को ठाकरे परिवार का हिस्सा बताया जा रही है, वहीँ अब शिंदे भी बड़ी मास्टरस्ट्रोक खेलने के तरफ आगे बढ़ रहे हैं।  एकनाथ शिंदे अब राज ठाकरे को अपने गुट में शामिल करने की कोशिस में हैं। ताकि राज ठाकरे के सहारे शिंदे गुट को बालासाहेब का नाम इस्तेमाल करने में दिक्कत नहीं होगी।  क्यूंकि राज ठाकरे उद्धव से भी ज्यादा समय बालासाहेब के साथ राजनीति और शिवसेना में रहे हैं। मामला अदालत तक पहुंच चूका है। जहाँ से बागी बिधायकों को रहत भी मिली है, कोर्ट के अनुसार १२ जुलाई तक किसी बिधायक को अयोग्य घोषित नहीं किया जा सकता।
Black Harbour Add
खबर यह भी आ रही है की इसी महीने के अंत में फ्लोर टेस्ट भी की जाएगी। जिसके बाद वर्तमान सरकार का गिरना तय माना जा रहा है। इसके बाद ही शायद भाजपा अपनी सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है।  हालाँकि आज २८ जून को शिंदे गुट ने आधिकारिक रूप से भाजपा के साथ बातचीत होने की औपचारिक घोषणा की है। अब देखना है की किस ओर पलड़ा भारी रहता है, कौन बनाता है महाराष्ट्र में सरकार।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here